इंडोनेशिया प्लेन क्रैश हुआ, 188 यात्रियों की मौत

  • 92
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

जकार्ता से उड़ान भरने के कुछ मिनटों बाद ही क्रैश हुए इंडोनेशिया के लॉयन एयर बोइंग 737 विमान को दिल्ली के मयूर विहार के 31 वर्षीय कैप्टन भव्य सुनेजा उड़ा रहे थे। विमान 188 यात्रियों को लेकर जेटी-610 जकार्ता से पंगकल पिनॉन्ग जा रहा था।

भव्य सुनेजा ऐल्कॉन पब्लिक स्कूल से पढ़े थे और 2009 में ही उन्होंने पायलट का लाइसेंस हासिल किया था। इसके बाद वह अमिरात में ट्रेनी रहे। उन्होंने 7 साल पहले साल 2011 में लॉयन एयर को जॉइन किया था। हमारे सहयोगी अखबार इकॉनॉमिक टाइम्स के एविएशन और डिफेंस एडिटर तरुण शुक्ला ने बताया कि उनके साथ को-पायलट हरविनो थे।

एक एयरलाइन कंपनी के सीनियर अधिकारी ने कहा, ‘हमारे बीच जुलाई के महीने में बात हुई थी। भव्य बहुत मीठा बोलते थे, प्यारे इंसान थे। उनके पास बोइंग-737 उड़ाने का अच्छा अनुभव था और इतने सालों में कोई हादसा नहीं हुआ था। उनके अच्छे रिकॉर्ड को देखते हुए हम उन्हें अपनी टीम में लाने को लेकर बहुत उत्साहित थे। उनकी बस एक शर्त थी कि उन्हें दिल्ली में पोस्टिंग दी जाए क्योंकि वह दिल्ली के रहने वाले थे।

डाउनलोड करें Hindi News APP और रहें हर खबर से अपडेट।

loading...

अधिकारी ने आगे बताया, ‘ज्यादातर पायलट उत्तर भारत से हैं और दिल्ली पोस्टिंग चाहते हैं। ऐसे में हमने कहा था कि एक साल हमारे साथ काम करने के बाद उन्हें दिल्ली पोस्टिंग देने पर विचार किया जाएगा। वह इंडियन एटीपीएल(कमांडर लाइसेंस) के लिए हमसे मदद चाहते थे। हाल में लॉयन एयर के कई पाइलटों ने हमारे यहां जॉइन किया।

भव्य को 6000 घंटों का फ्लाइट अनुभव था और को-पायलट को 5000 का। यह विमान अपनी उड़ान के 11 मिनट बाद ही क्रैश हो गया। बड़ी बात यह कि यह बिल्कुल नया विमान था और दो महीने पहले ही इसे शुरू किया गया था।

समाचार साइट ब्लूमबर्ग ने इंडोनेशिया की नैशनल सर्च ऐंड रेस्क्यू एजेंसी के हवाले से कहा है कि उड़ान के वक्त यह 3,000 फीट की ऊंचाई पर था। हालांकि इस साइट ने मरने वालों की संख्या 189 बताई है। सर्च ऑपरेशन के अधिकारियों ने बताया कि जावा समुद्र तट के पास विमान के टुकड़े टुकड़े हो गये।

  •  
    92
    Shares
  • 92
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Related posts

Leave a Comment