दंगा करने वाले बीजेपी नेताओं के बेटा बेटी नही, बल्कि धर्म की आङ मे गुमराह दलित बलबीर और अशोक मोची है

तीन चेहरों को जरूर याद करें ! बाबरी मस्जिद का पहला गुम्बद तोड़ने वाला एक दलित बलबीर चाँद था, जो आज मुफलिसी की जिन्दगी गुजार रहा है ! जाति से चमार यह आदमी परिवार के साथ सड़क पर खड़ा था ! कुछ मुसलमान भाईयों ने रहम करके इसकी आर्थिक मदद की ! आज यह इस्लाम कबूल करके एक सामान्य जिन्दगी जीने की कोशिश कर रहा है ! अतीत को याद करते हुए कहीं खो जाता है और तथाकथित हिन्दूवादी नेताओं को गरियाना शुरू कर देता है ! बाबरी मस्जिद का…