मोदी कृपा से शुगर उद्योगपति हुये मालामाल, एक घंटे मे कमाये 846 करोङ

black money of bjp receiving by narendra modi

मोदी के एक फैसले से शुगर कंपनियों के निवेशकों की चांदी, चंद घंटों में ही कमा लिये 842 करोड़ एथेनॉल की कीमतें बढ़ाने के फैसले से शुगर कंपनियों के शेयरों में 20 फीसदी तेजी आई है. शुक्रवार को बाजार खुलने के कुछ घंटों में ही शुगर कंपनियों के निवेशकों की दौलत 842 करोड़ रुपये बढ़ गई। एथेनॉल की कीमतें बढ़ाने के फैसले से शुगर कंपनियों के शेयरों में 20 फीसदी तेजी आई है. शुक्रवार को बाजार खुलने के कुछ घंटों में ही शुगर कंपनियों के निवेशकों की दौलत 842 करोड़…

मैने पीएम को बड़े घोटालेबाजों की लिस्ट दी थी, उन्होंने किसी को भी नहीं पकड़ा – रघुराम राजन

मैने पीएमओ को भेजी थी बड़े घोटालेबाजों की लिस्ट, उन्होंने किसी को भी नहीं पकड़ा – रघुराम राजन भारतीय रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन ने संसदीय समिति को सौंपे एक रिपोर्ट में कहा है कि उन्होंने देश में हाई प्रोफाइल घोटालेबाजों की एक लिस्ट प्रधानमंत्री कार्यालय को भेजी थी लेकिन उस पर क्या कार्रवाई हुई, उन्हें इसकी कोई जानकारी नहीं है। अपनी रिपोर्ट में राजन ने कहा है कि बैंक अधिकारियों के अति उत्साह, सरकार की निर्णय लेने की प्रक्रिया में सुस्ती तथा आर्थिक वृद्धि दर में नरमी…

मोदी सरकार ने 4 साल में तेल के ज़रिये आपका ही तेल निकाल दिया गया है – रवीश कुमार 

मोदी सरकार ने पिछले चार साल में तेल के ज़रिये आपका ‘तेल’ निकाल दिया गया है  – रवीश कुमार यूपीए ने 2005-06 से 2013-14 के बीच जितना पेट्रोल-डीज़ल की एक्साइज़ ड्यूटी से नहीं वसूला उससे करीब तीन लाख करोड़ रुपये ज़्यादा उत्पाद शुल्क एनडीए ने चार साल में वसूला है। तेल की बढ़ी क़ीमतों पर तेल मंत्री धर्मेंद्र प्रधान का तर्क है कि यूपीए सरकार ने 1.44 लाख करोड़ रुपये तेल बॉन्ड के ज़रिए जुटाए थे जिस पर ब्याज की देनदारी 70,000 करोड़ बनती है. मोदी सरकार ने इसे भरा…

मोदी सरकार के नये भ्रष्टाचार मुक्त भारत में किसानों के नाम पर 58,561 करोड़ का हाइटेक घोटाला, ये विकास नहीं तो और क्या है

modi farmer scam

एमएसपी से लेकर आधुनिक कृषि योजनाएं बनाने का दावा करने वाली मोदी सरकार के राज में घोटालों का विकास तेज़ी से हो रहा है. बीजेपी सरकार में नौकरी, शिक्षा, स्वास्थ्य, सुरक्षा भले ही न मिले, देश की जनता को हर महीने हाइटेक घोटाले की खबर ज़रूर मिल जाती है. बैग में भर कर काला धान विदेश जाने से रोकने वाली मोदी सरकार में जहां एक ओर चार्टेड प्लेन में भर कर काला धन विदेश भेजते हुए पकड़ा गया वहीं, किसानों की समस्याओं का मज़ाक बनाने वाली बीजेपी सरकार में 615…

नोटबंदी दुनिया का सबसे बङा स्कैम है, जिसको मोदी सरकार ने सुनियोजित ढंग से अंजाम दिया

नोटबंदी दुनिया का सबसे बङा स्कैम है, जिसको मोदी सरकार ने सुनियोजित ढंग से अंजाम दिया है यह आपके अख़बार ने या किसी गोदी मीडिया ने नहीं बताया है, चलो में ही बता देता हूँ नोटबंदी ने लघु व मध्यम उद्योगों की कमर तोड़ दी है। हिन्दू मुस्लिम ज़हर के असर में और सरकार के डर से आवाज़ नहीं उठ रही है लेकिन आंकड़े रोज़ पर्दा उठा रहे हैं कि भीतर मरीज़ की हालत ख़राब है। भारतीय रिज़र्व बैंक के अनुसार मार्च 2017 से मार्च 2018 के बीच उनके लोन…

क्या चौकीदार जी ने अंबानी के लिए चौकीदारी की है ? रवीश कुमार

रवीश कुमार

उपरोक्त संदर्भ में चौकीदार कौन है, नाम लेने की ज़रूरत नहीं है। वर्ना छापे पड़ जाएंगे और ट्विटर पर ट्रोल कहने लगेंगे कि कानून में विश्वास है तो केस जीत कर दिखाइये। जैसे भारत में फर्ज़ी केस ही नहीं बनता है और इंसाफ़ झट से मिल जाता है। आप लोग भी सावधान हो जाएं। आपके ख़िलाफ़ कुछ भी आरोप लगाया जा सकता है। अगर आप कुछ नहीं कर सकते हैं तो इतना तो कर दीजिए कि हिन्दी अख़बार लेना बंद कर दें या फिर ऐसा नहीं कर सकते तो हर…

जब देश मे काला धन था ही नही, तो झूठ क्यो बोला गया, क्या सरकार के पास जवाब है ?

रवीश कुमार

नोटबंदी के समय उल्लू बने लोग हाज़िर हों, 99.30 पैसा बैंक में आ गया है। कल्पना कीजिए, आज रात आठ बजे प्रधानमंत्री मोदी टीवी पर आते हैं और नोटबंदी के बारे में रिज़र्व बैंक की रिपोर्ट पढ़ने लगते हैं। फिर थोड़ा रूक कर वे 8 नवंबर 2016 का अपना भाषण चलाते हैं, फिर से सुनिए मैंने क्या क्या कहा, उसके बाद रिपोर्ट पढ़ते हैं। आप देखेंगे कि प्रधानमंत्री का गला सूखने लगता है। वे खांसने लगते हैं और लाइव टेलिकास्ट रोक दिया जाता है। वैसे कभी उनसे पूछिएगा कि आप…

45 रुपये डीजल पर उबलने वाली बीजेपी और मीडिया आज 76 रुपये पर शांत क्यों है ?

पेट्रोल डीजल महगाई बीजेपी धरना

क्या आपको ताजुब नहीं होता है कि आज से चार साल पहले 45 रूपये में डीजल होने पर जिस तरह बीजेपी और मीडिया वाले उबाल मारते थे जगह जगह धरना प्रदर्शन बहुत हुई पेट्रोल डीजल की मार अबकी बार मोदी सरकार जैसे नारों से रेडियो टीवी भरे रहते थे आज 75 रुपये पर शांत कैसे हैं ? क्या कोई मोदी सरकार ने मीडिया को मोटा माल खिलाया है जो उसके मुह से आवाज नहीं निकल रही है आखिर क्या मामला है ? न कोई आंदोलन, न टीवी बहस, न अख़बार…