महात्मा गांधी की मौत पर जब पाकिस्तान की अवाम बहुत रोई

गांधी - mohan das karam chand gandhi is not anyone other

30 जनवरी 1948 की शाम महात्मा गांधी की मौत पाकिस्तान के लिए भी एक बड़ी दुर्घटना थी. आवाम रोई थी. देशभर में मातम छा गया था और इस शोक में पाकिस्तानी झंडा झुका दिया गया था. तब गांधी की शख्सियत की तारीफ़ करते हुए उर्दू और अंग्रेज़ी के अख़बारों में तमाम लेख लिखे गए. साफ लफ्ज़ों में लिखा था कि मुसलमानों की एक हमदर्द और हिमायती आवाज़ चुप करा दी गई। मगर यह वाक़या 68 बरस पहले का है. पाकिस्तान के वरिष्ठ पत्रकार वुसतुल्लाह ख़ान के मुताबिक़, ‘अब जब मैं…

मोदी सरकार की सभी रोजगार योजनाएं फेल, गहरा गया बेरोजगारी का संकट

मोदी सरकार की सभी रोजगार योजनाएं फेल, गहरा गया बेरोजगारी का संकट, मोदी सरकार के दावों के बावजूद देश में बेरोजगारी का संकट गहराता जा रहा है। 2014 में हुए आम चुनावों के प्रचार के वक्त नरेन्द्र मोदी और भारतीय जनता पार्टी ने रोजगार को मुद्दा बनाया था. हर साल 2 करोड़ से अधिक रोजगार के अवसरों के निर्माण के वादे के तहत प्रधानमंत्री ने पिछले चार वर्षों में कई योजनाओं और कार्यक्रमों की शुरुआत की. पिछले साल अगस्त में मोदी ने दावा किया कि बीते वित्त वर्ष में औपचारिक…

2019 चुनाव से पहले, बीजेपी अयोध्या में 1992 जैसे हालात पैदा कर रही हैं।

2019 लोकसभा चुनाव से पहले, बीजेपी अयोध्या मजैसे हालात पैदा कर रही हैं। अयोध्या में राममंदिर निर्माण के मसले पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) से जुड़े विश्व हिंदू परिषद (विहिप) जैसे संगठन कोई बड़ी योजना बना रहे हें. द एशियन एज़ में सूत्रों के हवाले से छपी ख़बर की मानें तो यह योजना 1992 जैसा आंदोलन खड़ा करने की हो सकती है. इसकी वज़ह भी पुख़्ता बताई जाती है. इसके मुताबिक विहिप जैसे हिंदू संगठनों में एक बड़े वर्ग की धारणा है कि अयोध्या का मसला ही भाजपा को 2019 के लोक…

डिजिटल युग में पीआर और विज्ञापन के बदलते आयामों पर हुआ सेमिनार

लखनऊ, 31 जनवरी 2019 – ब्रांड मैनेजमेंट के क्षेत्र में अपना खास मुकाम बना चुकी कैवल्य कम्युनिकेशन और एमिटी युनिवर्सिटी के संयुक्त तत्वावधान में एमिटी यूनिवर्सिटी के लखनऊ केंपस में पब्लिक रिलेशंस और एडवरटाइजिंग के बदलते आयामों पर एक दिवसीय सेमिनार का आयोजन हुआ। उक्त संगोष्ठी में सम्मानित पैनलिस्ट में श्री यू श्रीनिवासन (भारती एयरटेल)य श्री अमित सिंह (नेटवर्क 18) और सुश्री वेदाक्षरी (एबीसी) डिजिटल युग में विज्ञापन और पब्लिक रिलेशंस के बदलते आयाम पर अपने विचार रखे। सेमिनार में छात्रों को सम्बोधित करते हुये श्री यू श्रीनिवासन, कॉर्पोरेट कम्युनिकेशन…

2014 का चुनाव जीतने के लिए मोदी ने ईवीएम हैकरों को दिये थे 3000 करोड़

2014 मे लोकतंत्र की हत्या कैसे हुई है उसके सबूत ईवीएम मशीन में हो रही हैकिंग है। वाराणसी में नरेंद्र मोदी चुनाव लड़ रहे थे वहां ईवीएम मशीन से एक लाख 87 हजार वोट ज्यादा निकले आप को समझाने के लिए उदाहरण देता हूं । वाराणसी के लोगों ने दस लाख वोट दिया और ईवीएम मशीन से 11 लाख 87 हजार वोट निकले। इतनी तेजी से तो अंडा देने वाली मुर्गी भी।अंडा नहीं देती है जितना तेजी से यह ईवीएम मशीन वोट देती है। वाराणसी लोकसभा सीट पर काउंटिंग के…