मोदी ने कैसे आउटसोर्सिंग के बहाने करोङो नौकरियां खत्म कर लूट मचा रखी है, वोट देने से पहले यह खबर ज़रूर पढे।

आउटसोर्सिंग ने नाम पर भारी लूट जारी है, परमानेन्ट नौकरी कैसे खत्म की, हर नौजवान ये खबर पढे। श्रम कानूनो में पहले केवल दो श्रेणी भी, एक परमानेन्ट और दूसरा केजुअल, इसके अलावा स्टाफ और मैनेजर अलग कैटागिरी थी । परमानेन्ट श्रमिक, आज भी है, जिसको नौकरी से बिना कारण के निकाल नहीं सकते, हर वर्ष वेतन वृद्धि करना है । केजुअल केवल सीजनल कंपनियों के लिए थे, जहॉ काम कम ज्यादा होता रहता है, केजुअल में उन्हीं श्रमिक को पहले लेना है, जो पहले से काम करता आया है…