मोदी जी अपने बचनप का किस्सा छोड़िए, इनके बचपन की सोचिए – रवीश कुमार

मोदी जी अपने बचनप का किस्सा छोड़िए, इनके बचपन की सोचिए दो साल पहले जब मैंने प्राइवेट स्कूलों की लूट पर लगातार कई दिनों तक प्राइम टाइम किया था तब लोगों ने रास्ते में रोक कर कहा कि आप मोदी विरोध में ऐसा कर रहे हैं। मुझे समझ नहीं आया कि स्कूलों के इस लूट सिस्टम पर रिपोर्ट करने का संबंध मोदी विरोध से कैसे है। ख़ैर। लूट जारी है। क्योंकि इन स्कूलों में पीछे से नेताओं का पैसा सफेद होता है। मीडिया घराने भी स्कूल चलाने लगे हैं। इसलिए…