किसानों को आय दुगुनी करने का झांसा देने वाले मोदी ने किसानो पर कराया दोगुना लाठीचार्ज

  •  
  • 172
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

किसानों के आसूं से सरकार बदल जाते हैं। मोदी सरकार तो खून बहा रहा है। फिर भी देश किसान के दर्द को नहीं समझ रहा है।किसानों की समस्याओं को समझने के लिए एक दिन किसान बनकर देखिये। मान लीजिये एक छोटा किसान है, जो धान की फसल लेता है और जिनके पास सिर्फ दो एकड़ जमीन है।

असिंचित भूमि होने की वजह से वे बरसात की पानी पर ही निर्भर है। मानसून आता है ,किसान घर में रखे बीज या सहकारिता समिति से बीज खरीदकर धान की बोवाई करता है या थरहा देकर रोपाई करता है। दोनों ही स्थितियों में किसान को दो बार अच्छी तरह से खेत की जुताई करनी पड़ती है। रोपाई के लिए आजकल 2400 रुपए प्रति एकड़ मज़दूरी दर है,दो एकड़ के लिए 4800 रूपए हो गया।

डाउनलोड करें Hindi News APP और रहें हर खबर से अपडेट।

loading...

अब अगर मानसून अच्छी है तो अच्छी फसल के लिए किसान को डीएपी खाद जिस पर सब्सिडी मोदी सरकार ने खत्म कर दी है लगभग 1200 रूपए (50 kg ) में खरीदना पड़ता है। अंदरूनी क्षेत्रों में यह 1400 रूपए तक आता है। इसके बाद लगातार यूरिया खाद (300 रुपए/50 kg ) देना पड़ता है। दो एकड़ में फसल पकने तक किसान कम से कम 8 बोरी यूरिया खाद का छिड़काव करना पड़ता है। साथ ही फसल के पकने तक किसान लगातार कीटनाशक का छिड़काव करते हैं।

आपको बता दूँ कीटनाशकों पर मोदी सरकार ने 28 % जीएसटी लगाया हुआ है। इसके बाद फसल पकने के बाद किसान हार्वेस्टर से आजकल कटाई कर रहे हैं जो 1700 रूपए एकड़ है ,दो एकड़ में यह 3400 रूपए तक हो गया। इसके बाद धान की उड़ाई और उसे बोरे में भर सोसायटी या मंडी तक ले जाने का खर्च अलग। इसके बाद अगर किसान का दो एकड़ में 30 क्विंटल धान हो भी गया तो उसके हाथ में क्या आएगा ?लगभग 50 हज़ार रूपए । लगभग 40 हज़ार खर्च करने के बाद 10 हज़ार रूपए के लिए किसान खेती करता है। इसमें भी जिनसे ब्याज में पैसा लिया है खेती के लिए उसे भी चुकता करना होता है।

इस दौरान उनके बीवी -बच्चे कटे फटे कपड़ो में रहते हैं। किसी की तबियत ख़राब हो गई तो उसका इलाज भी नहीं कर पाता है किसान। और अगर मानसून अच्छा नहीं रहा या अकाल (सूखा ) पड़ गया तो पेड़ में एक रस्सी में गले को लटकाने के अलावा कोई चारा नहीं रहता – विक्रम सिंह चौहान


  •  
  • 172
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    172
    Shares
  • 172
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Related posts

Leave a Comment