देश के सभी मंदिरों और मठो मे चल रहा हे सेक्स का धंधा, सारे बाबा महंत कुकर्मी – गोल्डन बाबा

  •  
  • 7.8K
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

देश के सभी मंदिरों और मठो मे चलता हे सैक्स का धंधा सारे बाबा महंत कुकर्म करते है-  अखाड़े के पंच पद से निष्कासित संत गोल्डन बाबा ने कहा कि जूना अखाड़ा बाल संन्यासियों के यौन शोषण का अड्डा है। उन्होंने कहा कि यदि ईमानदारी से इस पूरे प्रकरण की जांच की जाए तो यह आसाराम और राम रहीम प्रकरण से भी बड़ा मामला निकलेगा।

रविवार को दोबारा पत्रकारों से वार्ता करते हुए गोल्डन बाबा ने कहा कि इस पूरे प्रकरण की उच्च स्तरीय जांच की जानी चाहिए। जिससे पीड़ित बाल संयासियों को इंसाफ मिल सके। अन्यथा कई और बाल संन्यासी यौन शोषण का शिकार बनते रहेंगे। उन्होंने कहा कि जब उन्होंने अपने शिष्य के साथ दुष्कर्म किए जाने के मामले में न्याय की मांग की तो उन्हें अखाड़े से निष्कासित कर दिया गया। अखाड़े के कर्ताधर्ता न्याय करने के बजाय उन पर समझौते का दबाव भी बना रहे हैं लेकिन वे न्याय के लिए किसी भी स्तर तक जाएंगे।

दुष्कर्म का आरोप लगाने वाले शिष्य ने पत्रकारों को बताया कि उसके अलावा कई अन्य बाल संन्यासियों के साथ भी यौन शोषण किया गया है। यदि सख्ती से पुलिस अपनी कार्रवाई करे तो कई बाल संन्यासियों के साथ यौन शोषण के कई मामले उजागर होंगे। उन्होंने आरोप लगाया कि अखाड़े में रहते हुए एक महंत ने उसके साथ कई बार दुष्कर्म किया। विरोध करने पर उसे जान से मारने की धमकी दी जाती थी। डर की वजह से उसने यह बात किसी को नहीं बताई। परेशान होकर वह चुपचाप अखाड़ा छोड़कर चला गया। उन्होंने कहा कि अखाड़े के संरक्षक महंत हरिगिरि महाराज पूरे प्रकरण से भलीभांति अवगत हैं। फिर भी वह न्याय करने के बजाय आरोपी महंत को अपना संरक्षण दे रहे हैं।  आरोपों को अखाड़े ने किया खारिज पंच दशनाम जूना से निष्कासित गोल्डन बाबा की ओर से जूना अखाड़े के पदाधिकारियों पर लगाए गए आरोपों को अखाड़े के श्रीमहंतों ने पूरी तरह खारिज कर दिया है।

डाउनलोड करें Hindi News APP और रहें हर खबर से अपडेट।

loading...

श्रीमहंतों ने एक संयुक्त बयान प्रेस के लिए जारी कर गोल्डन बाबा पर धोखाधड़ी के आरोप लगाते हुए उन्हें  श्री 420 ठहराया और उन पर चल रहे 34 मुकदमों की सूची जारी की। अखाड़े के मुख्य संरक्षक और अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय महामंत्री श्रीमहंत हरिगिरि, सभापति श्रीमहंत भागवत पुरी, उपाध्यक्ष श्रीमहंत प्रेमगिरि, सोहन गिरि, महामंत्री देवानंद सरस्वती और राष्ट्रीय प्रवक्ता विद्यानंद सरस्वती के हस्ताक्षरों से एक बयान आज जूना अखाड़ा हरिद्वार से जारी किया गया। इस बयान के साथ गोल्डन बाबा उर्फ सुधीर कुमार मक्कड़ उर्फ बिट्टू भगत के विरुद्ध अनेक थानों में दायर 34 मामलों की सूची भी जारी की गई। श्रीमहंत विद्यानंद सरस्वती ने वीडियो जारी करते हुए बताया कि कुंभ मेला प्रशासन की ओर से प्रयाग में दिए गए सुरक्षाकर्मी को गोल्डन बाबा जबरन हरिद्वार ले आए। जब सुरक्षाकर्मी ने बाबा से अनुमति दिखाने को कहा तो बाबा ने उसे चोरी के मामले में फंसाने की धमकी दी।

सुरक्षाकर्मी ने प्रयाग लौटकर गोल्डन बाबा के खिलाफ कुंभ मेला पुलिस में मुकदमा दर्ज कराया है।  राष्ट्रीय प्रवक्ता विद्यानंद सरस्वती ने बताया कि गोल्डन बाबा के मामले विस्तृत जांच रिपोर्ट मिलने के बाद उन्हें अखाड़े से निष्कासित कर दिया था। तब से वे बौखलाकर जूना अखाड़े के पदाधिकारियों के खिलाफ अनर्गल आरोप लगा रहे हैं।  अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय महामंत्री श्रीमहंत हरिगिरि से प्रयाग से दूरभाष पर बताया कि प्रयाग कुंभ मेला पुलिस को गोल्डन बाबा के इतिहास के पूरी जानकारी दे दी गई है। अखाड़े की कार्रवाई और सुरक्षाकर्मी की ओर से लिखाई गई रिपोर्ट के बाद गोल्डन बाबा हरिद्वार चले गए हैं। वे वहां झूठा दोषारोपण अखाड़े के पदाधिकारियों पर कर रहे हैं।

हरिद्वार जूना अखाड़ा भी उनके विरुद्ध मानहानि का मुकदमा दर्ज कराने जा रहा है।  वहीं गोल्डन बाबा ने अखाड़े की ओर से अपने ऊपर लगाए गए आरोपों को बेबुनियाद बताते हुए कहा कि उनपर बीस साल पहले जो मुकदमे दर्ज कराए गए थे वे सभी समाप्त हो गए हैं। अखाड़े के संत अब उन्हें बेवजह बदनाम करने के लिए दुष्प्रचार कर रहे हैं।   क्योंकि उन्होंने अखाड़े के संतों के खिलाफ पहली बार आवाज उठाई है इसलिए दुष्प्रचार किया जा रहा है।

साभार अमर उजाला


  •  
  • 7.8K
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    7.8K
    Shares
  • 7.8K
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Related posts

Leave a Comment