बीजेपी कार्यकर्ता 13 साल से सीख रहे वंदे मातरम की 2 लाइनें कैमरे पर नहीं गा सके

BJP workers could not sings 2 lines of Vande Mataram on camera, learning since 13 years
  •  
  • 48
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

क्या भारत में राष्ट्रीय गान और स्लोगन राष्ट्रभक्ति की असली पहचान बन चुकी है या यह सिर्फ बीजेपी की राजनीति का शिकार है? हालाँकि, जबसे नरेंद्र मोदी भारत के प्रधानमंत्री बने हैं तभी से देश  में इस तरह की बातों पर युद्धस्तरीय चर्चा चल रही है.

ताजा मामला मध्य प्रदेश के भोपाल शहर का है, जहां दो दशक के बाद बीजेपी को हरा कर कांग्रेस ने सत्ता संभाली है. बीजेपी सरकार के दौरान पिछले 13 सालों से भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्त्ता महीने के पहले दिन ‘वंदे मातरम’ गा कर मंत्रालय का कामकाज शुरु कराते थे.

लेकिन इस बार नवनिर्वाचित कांग्रेस सरकार ने ऐसा करने से इंकार कर दिया. इसी बात को लेकर बीजेपी के सैकड़ों कार्यकर्त्ता मंत्रालय के सामने धरने पर बैठ गए और कांग्रेस सरकार पर देशद्रोही होने का आरोप लगाने लगे.

डाउनलोड करें Hindi News APP और रहें हर खबर से अपडेट।

loading...

लेकिन जब एक न्यूज़ टीवी रिपोर्टर ने प्रदर्शन कर रहे बीजेपी कार्यकर्तों से लेकर नेताओं से कैमरे पर वंदे मातरम गाने को कहा तो उनमें से एक भी सुना नहीं सका. सभी कैमरे पर राष्ट्रगान सुनाने से बचते रहे. उनमें से एक बीजेपी नेता ने तो यहां तक बहाना बना दिया की वे केवल शुरू के दो लाइन ही गाते हैं पर वंदे मातरम और राष्ट्रभक्ति उनके तनमन में बस्ती है.

 Watch Video

अब ऐसे में सवाल यह उठता है कि वंदे मातरम का अपमान, भारत माता की जय और राष्ट्रभक्ति जैसे ममलों को लेकर दूसरों पर देशद्रोही होने का इल्ज़ाम लगाने वाली बीजेपी पार्टी को क्या पहले खुदको राष्ट्रभक्त होने का कोई ठोस सबूत देना चाहिए?

Source : newsreaders.in


  •  
  • 48
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    48
    Shares
  • 48
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Related posts

Leave a Comment