2014 में बन्दर के हाथ में उस्तरा आ गया है – नितिन गडकरी

  •  
  • 345
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

नितिन गडकरी की हिम्मत का जबाब नहीं, आखिर उन्होंने कह ही दिया  कि 2014 में बन्दर के हाथ में उस्तूरा आ गया है।

मोदी सरकार मे मंत्री नितिन गडकरी को 2019 का नतीज़ा ‘दीवार पर लिखावट’ यानी Writing on the wall के रूप में साफ़ दिखने लगा है। गडकरी अनुभवी नेता हैं। हवा का रुख़ भाँपना जानते हैं। मोदी और अमित शाह की शैली के मुरीद कभी नहीं रहे। इसीलिए बड़ी चतुराई और शालीनता से स्वीकार करते हैं कि ‘2014 में भारत की जनता ने बन्दर के हाथ में उस्तूरा थमा दिया!’ दरअसल, गडकरी को मालूम है कि यदि वो चतुराई से अपना गुनाह क़बूल कर लेंगे तो चुनाव में जनता निजी तौर उन्हें कम दंड देने पर विचार कर सकती है। यदि ऐसा हो सका तो वो भागते भूत की लंगोटी होगी। वैसे सियासी गलियारे में रहने वाले हर व्यक्ति को पता है कि 62 वर्षीय गडकरी ने अपने बाक़ी जीवन के लिए पर्याप्त इंतज़ाम कर रखा है। कई विपक्षी नेताओं से उनके अच्छे सम्बन्ध हैं, जिसकी बदौलत सत्ता परिवर्तन के बाद वो अपनी ख़ाल बचा लेंगे।

Anand Ranganathan

@ARanganathan72

Emperor Troll strikes again. And this time it was so subtle that most missed it. Watch out for the Italian soft-T in ‘272’. (clip courtesy @vishkanyaaaa)

Embedded video

Anand Ranganathan

@ARanganathan72

Master troll strikes again. And this time @nitin_gadkari‘s hapless victims are none other than @narendramodi and @BJP4India. pic.twitter.com/EhoJol3Qbg

Embedded video

मुस्कुराओ और चल दो

गडकरी ने नाना पाटेकर के एक मराठी शो में ख़ुलासा किया कि “हम सभी का दृढ़ विश्वास और प्रखर आत्मविश्वास था कि हम कभी सत्ता में आएँगे ही नहीं। इसलिए हमारे आसपास के लोग कहते थे कि आप तो बोलिए, वादे कीजिए, क्या बिगड़ेगा? आप पर कौन सी जबाबदारी आने वाली है। लेकिन अब तो जबाबदारी आ गयी। अब ख़बरों में आता है कि गडकरी क्या बोले थे, फडणवीस क्या बोले थे, तो अब आगे क्या? तो हम हँसते हुए आगे बढ़ जाते हैं।

डाउनलोड करें Hindi News APP और रहें हर खबर से अपडेट।

loading...
गले की फ़ाँस

गडकरी ही वो व्यक्ति हैं जिन्होंने पहली बार सार्वजनिक रूप से ये स्वीकार किया था कि ‘अच्छे दिन आने वाले हैं’ वाला जुमला बीजेपी और मोदी सरकार के गले की फाँस बन गया है! उनका यही रुख़ महँगाई और पेट्रोल-डीज़ल की क़ीमतों को लेकर भी रहा है और राम मन्दिर को लेकर भी। उन्हें पता है कि जन भावनाओं को भड़काने और भुनाने वाला कोई भी नारा एक चुनाव के बाद कभी काम नहीं आता। इसीलिए 1996 के बाद संघ-बीजेपी ने राम मन्दिर के मुद्दे को उठाकर ताक पर रखा दिया। यही हश्र अगले चुनावों में समान नागरिक संहिता यानी कॉमन सिविल कोड और अनुच्छेद 370 का भी हुआ। इसी परम्परा के मुताबिक़, 2014 में बीजेपी ने जिस भ्रष्टाचार, काला धन, गुजरात मॉडल और विकास की डुगडुगी बजायी थी, वो सभी मुद्दे 2019 में नदारद रहेंगे। यही वजह है कि 2014 के बाद से कश्मीरी पंडितों की घर-वापसी कोई मुद्दा नहीं रहा। महबूबा के साथ सरकार बनाने के बावजूद एक भी कश्मीरी पंडित की घर-वापसी नहीं हुई! ‘दो करोड़ रोज़गार के अवसर’ भी कितना बड़ा झाँसा था, ये किससे छिपा है!

दिमाग़ ख़राब

गडकरी ही बीजेपी के इकलौते ऐसे मर्द हैं, जिसे नरेन्द्र मोदी से डर नहीं लगता। इसीलिए नोटबन्दी के वक़्त जब मोदी ने गडकरी को चिढ़ाया कि अब तो आपको भी दो लाख रुपये में अपने बेटी की शादी करनी पड़ेगी तो गडकरी ने बहुत सख़्त लहज़े में कहा था, ‘अरे, आपका दिमाग़ ख़राब हो गया है क्या! दो लाख रुपये में भी कहीं शादी होती है!’ गडकरी के इस तेवर को देखकर मोदी की सिट्टी-पिट्टी ग़ुम हो गयी! क्योंकि इससे पहले वो ऐलान कर चुके थे कि ‘भाईयों-बहनों, मुझे सिर्फ़ 50 दिन का वक़्त दीजिए। इसके बाद आप जिस चौराहे पर चाहे मुझे सूली पर लटका दीजिएगा!’

गडकरी की बेटी की शादी 5 दिसम्बर 2016 को ख़ूब शान-ओ-शौक़त के साथ नागपुर में सम्पन्न हुई। मोदी भी वहाँ गये थे। लेकिन तब तक उन्होंने नोटबन्दी को पूरा निचोड़ लिया था! संघ और बीजेपी के तमाम आला नेताओं ने तब तक अपने लाखों करोड़ रुपये को ठिकाने लगा लिया था। दूसरी ओर, सवा सौ करोड़ भारतवासी आज भी मोदी के चौराहे पर आने का वैसे ही इन्तज़ार कर रहे हैं जैसे शिव मन्दिर के बाहर बैठा नन्दी बैल अपलक भोले-शंकर के बाहर आने का इन्तज़ार करता है !

कहने में क्या जाता है ?

एक मुहावरा है, ‘मथुरा में रहना है तो राधे-राधे कहना है!’ इसी नीति का पालन करते हुए नरेन्द्र मोदी की तरह नितिन गडकरी ने भी ख़ूब लम्बी-चौड़ी फेंकी है। जैसे कुछ महीने पहले इन्होंने दावा किया था कि मार्च 2019 तक गंगा 70-80% साफ़ हो जाएगी! इस तरह से सत्ता की ख़ातिर गडकरी का भी नज़रिया ऐसा ही है कि ‘कह दो! कहने में क्या जाता है! जब बात ग़लत साबित होगी, तब कुछ और कह देंगे! तब तक तो मौज़ करते रहो! सत्ता के मज़े लेते रहो!’ गडकरी की दूसरी हवाबाज़ी है कि ‘बीते साढ़े चार साल में देश में जितनी सड़कें बनी हैं, उतनी तो 70 साल में भी नहीं बनी!’ सच्चाई ये है कि गडकरी जैसा चमत्कार तो भगवान विश्वकर्मा भी नहीं कर सकते! लेकिन झाँसों, झूठों और अफ़वाहों को फ़ैलाने वाले संघी भक्तों का लाक्षाग्रह का बनना जारी है!

मोदी भाषणम् किम् दरिद्रताम्

गडकरी ने अपनी सहुलियत के मुताबिक़, उन सड़कों को भी ‘नयी’ मान लेते हैं, जिनकी सिर्फ़ मरम्मत और ‘कारपेटिंग’ की जाती है। जबकि सच्चाई ये है कि देश में नैशनल हाईवे की कुल लम्बाई 1.3 लाख किलोमीटर है। इसका तीन चौथाई हिस्सा यानी 75% हिस्सा आज भी दो लेन या इससे भी कम चौड़ा है! दरअसल, नैशनल हाईवे की देखरेख और मरम्मत या चौड़ीकरण का काम केन्द्रीय सड़क मंत्रालय की ओर से राज्यों के लोक निर्माण विभाग के ज़रिये करवाया जाता है। जबकि चार लेन या इससे चौड़ी हाईवे का ज़िम्मा नैशनल हाईवे अथारिटी के पास है।

मोदी राज में अभी तक 31,000 किलोमीटर सड़क बनी है। जबकि यूपीए-2 का आँकड़ा 24,425 किलोमीटर था। ये इज़ाफ़ा 26% का है। लेकिन ऐसा नहीं है कि इस 26% में सारा नया निर्माण चार लेन वाले हाईवे का ही हुआ हो! यूपीए हो या एनडीए, दोनों ने ही नयी सड़कों के खाते में दो लेन वाले हाईवे की मरम्मत और चौड़ीकरण को भी नयी सड़कों के खाते में ही जोड़ा है। अब ज़रा सोचिए कि सरकारी आँकड़ों और 70 साल से ज़्यादा सड़क-निर्माण वाले गडकरी के भाषण के बीच कोई सुर-ताल है क्या? क़तई नहीं। गडकरी ने भी झूठ की कहाड़ी को चूल्हे पर चढ़ा दिया गया है और झाँसों वाली पूरियाँ दना-दन छानी जा रही हैं। इसे कहते हैं, ‘भाषणम् किम् दरिद्रताम्’ यानी भाषण देने में क्या दरिद्रता या कंजूरी दिखाने की क्या ज़रूरत है!

मोदी मेले का गुब्बारा है

मोदी नीति का भी सूक्ति वाक्य यही है कि ‘भाषणम् किम् दरिद्रताम्’। जबकि मोदी के बाक़ी चेलों का काम है, ‘गुरुजी को चमत्कारी बताते रहो! जब तक जनता इस भ्रम में रहेगी, तब तक दुकान चलती रहेगी। यही वजह है कि मोदी सरकार कभी उन वादों की बात नहीं करती जो उसने 2014 में किये गये थे। बल्कि अब हरेक भारी-भरकम बदलाव के लिए ‘2022 का सपना’ बेचा जाता है। हर वक़्त ब्रॉन्डिंग और मार्केटिंग में गोते लगाने वालों को अच्छी तरह पता है कि यदि जनता 2022 के झाँसों में नहीं आयी तो 2019 में बीजेपी के लिए सौ सीटों का आँकड़ा भी पहाड़ बन जाएगा !

वजह साफ़ है कि मेले से लाये गये गुब्बारों की तरह गाय-गोबर का खेल वीरगति को प्राप्त हो चुका है! विकास ने किसानों, मज़दूरों और युवाओं को निहाल कर रखा है! ‘अच्छे दिन’ मोदी के सिर्फ़ उन दोस्तों के लिए ही आ पाये, जो बैंकों को लूटकर फ़ुर्र हो लिये! अभी आलम ये है कि जो कहते हैं कि उन्हें 15–15 लाख रुपये नहीं मिले, वो देशद्रोही हैं, पाकिस्तानी हैं! इसीलिए फ़िलहाल, बीजेपी का सारी उम्मीदें क्षेत्रवाद, हिन्दू-मुसलमान और ‘ईवीएम महोदय’ के भरोसे ही रह गयी है! 2019 के लिए अभी तो सिर्फ़ इतनी रणनीति है कि दौड़ते रहो, मेहनत करते हुए दिखते रहो, ‘मन की बातें’ करते रहो। जन की बातों की परवाह मत करो।

बिल्ली का भाग्य

मोदी से कोई नहीं पूछ सकता कि उनके लम्बे-चौड़े वादों का नतीज़ा क्या रहा! मीडिया का सत्यानाश हो चुका है। उसके पास जनसरोकारों के लिए वक़्त नहीं है। विपक्ष को मीडिया में सही कवरेज़ नहीं मिलती। बीजेपी में सभी मोदी-शाह के आगे हाथ जोड़े खड़े हैं। मोदी-शाह का मानना है कि यदि दो दिन भी टीवी और विज्ञापनों में नज़र नहीं आये तो जनता भूल जाएगी। इसीलिए वो अपनी नाकामियों का ठीकरा भी काँग्रेस और राहुल गाँधी के पुरखों के सिर फोड़ते रहते हैं। लिहाज़ा, रणनीति ये है कि अबकी बार जनता को इतना तगड़ा झाँसा दो कि वो मुंगेरी लाल के हसीन सपनों में ही उलझ जाए, नींद में चलते हुए पोलिंग बूथ तक पहुँचे और ईवीएम को प्रणाम करके कमल का बटन दबाकर मोदी के प्रति अपनी पुष्पांजलि समर्पित कर दे! लेकिन इतिहास गवाह है कि न तो ‘काठ की हांडी कभी बार-बार चूल्हे पर चढ़ी है’ और ना ही ‘बिल्ली के भाग्य से झींका ही बार-बार टूटता है।


  •  
  • 345
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    345
    Shares
  • 345
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Related posts

Leave a Comment