ये है बीजेपी का नया भारत – लेबर चौक पर मज़दूरों के साथ मिल रहे है पीएचडी से लेकर ग्रेजुएट्स

  •  
  • 50
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

नये भारत की तस्वीर देखनी हो तो आप लेबर चौक पर चले जाइये आपको वहा अनपढ़ या कम पढ़े लिखे लोग मिलते हैं. पर अब मोदी के कुशल नेतृत्व मे आपको बेरोज़गारी की दौड़ में मास्टर्स से लेकर ग्रेजुएट्स तक आपको लेबर चौक पर मिलेंगे।

नोएडा सेक्टर 58 का लेबर चौक. जहां सुबह से ही दिहाड़ी मज़दूरी को लेकर भीड़ जुटनी शुरू हो जाती है. इसी भीड़ में कॉमर्स में मास्टर्स किए बदायूं के भानु मिले. 4-5 साल तक अलग-अलग परीक्षाओं की तैयारी की. पर नौकरी कम दिखी और परिवार का बोझ ज़्यादा तो मज़दूर बन गए. इनकी डिग्री को लेकर मन में सवाल उठा तो खोड़ा के अपने घर ले गए और अपनी डिग्रियां भी दिखाईं. खोड़ा में किराए पर रहने वाले भानु प्रताप सिंह बताते हैं कि दिल्ली आए तो पहले मज़दूर का काम किया फिर सीखकर राज मिस्त्री बन गए।

डाउनलोड करें Hindi News APP और रहें हर खबर से अपडेट।

loading...

पढ़े लिखे लोगों को नज़रें ढूंढ ही रही थीं कि लेबर चौक की भीड़ में विशाल टकराये. बताया ग्रेजुएट हूं पर यहां हेल्पर का काम कर लेता हूं. उत्तरप्रदेश के बुलंदशहर से हैं. किस्मत ठीक रही तो 400 रुपये की दिहाड़ी हो जाती है. नहीं तो महीने में 10-12 दिन खाली ही लौटना पड़ता है. कहा शायद आपको भरोसा न हो ग्रेजुएट हूं तो डिग्री देख लीजिए. सीसीएस यूनिवर्सिटी मेरठ से ग्रेजुएट हैं. मैट्रिक से लेकर ग्रेजुएशन तक सेकंड क्लास।


  •  
  • 50
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    50
    Shares
  • 50
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Related posts

Leave a Comment