कया मोदी को दुबारा पीएम इसलिये बनाया जाय कि अभी जो पेट्रोल 35 का मिल रहा है उसे वे 90 का बेच सके !

  •  
  • 72
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

मोदी जी का दोबारा प्रधानमंत्री बनना बेहद ज़रूरी है. अगर ऐसा नहीं हुआ तो बीते पाँच सालों में उन्होंने जो मेहनत की है उस पर पूरी तरह पानी फिर जाएगा:

जो पेट्रोल आज 36 रुपए लीटर मिल रहा है, वह फिर से 80 रुपए के पार पहुँच जाएगा जैसा 2014 से पहले था.

रुपए की जिन गिरती क़ीमतों को मोदी जी ने अपने अथक प्रयासों से ऊपर चढ़ाया है, वह फिर धरातल में जाने लगेंगी.

जो पाकिस्तान आज अपने लाहौर को बचाने के लिए मिमिया रहा है, वह फिर से कश्मीर पर बुरी नज़र डालने लगेगा.

हाफ़िज़ सईद, दाऊद इब्राहिम, सैय्यद सलाउद्दीन और अज़हर मसूद जैसे जिन आतंकियों को मोदी जी के डर से पाकिस्तान ने ख़ुद भारत को सौंप दिया है, वह फिर से आज़ाद कर दिए जाएँगे.

नीरव मोदी, विजय माल्या, ललित मोदी और मेहुल चौकसी जैसे लुटेरे, जो आज भारतीयों जेलों में सड़ रहे हैं, फिर से सीना तानकर घूमने लगेंगे.

‘राष्ट्रीय दामाद’ रॉबर्ट वाडरा, जो बीते पाँच सालों से तिहाड़ जेल में सूख कर काँटा हो चुका है, फिर से छुट्टा साँड़ हो होकर ज़मीने रौंधने लगेगा.

अयोध्या में जो भव्य राम मंदिर बनकर तैयार है, सिर्फ़ लेंटर डालना बाक़ी रह गया है, वह कभी पूरा न हो सकेगा. राम लला तिरपाल में ही रह जाएँगे.

अनुच्छेद 370 को ख़त्म कर मोदी जी ने कश्मीर में जो शांत माहौल बना दिया है, वह अनुच्छेद 370 फिर से प्रभावी कर दिया जाएगा और कश्मीर फिर जलने लगेगा.

समान नागरिक संहिता यानी ‘कॉमन सिवल कोड’ को लागू करके मोदी जी ने देश में जो सांप्रदायिक सौहार्द क़ायम किया है, उस संहिता को ख़त्म कर दिया जाएगा और देश फिर से 2014 से पहले की तरह शरिया क़ानून से चलने लगेगा.

हर साल दो करोड़ नई नौकरियाँ देकर मोदी जी ने जिस बेरोज़गारी की जड़ों में मट्ठा डाल दिया है, वह जड़ें फिर मज़बूत होने लगेंगी और बेरोज़गारी बेहद बढ़ जाएगी.

स्वरोज़गार की सबसे ऐतिहासिक और सफल ‘पकौड़ा योजना’ के लिए भी युवाओं को तेल मिलना बंद हो जाएगा.

‘किसान आत्महत्या’, जो अब बीते दिनों की बात हो चुकी है, फिर से 2014 के पहले की तरह होने लगेंगी.

जो कालाधन मोदी जी विदेशों में घूम-घूमकर वापस ला चुके हैं, उसे फिर से विदेशी खातों में डाल दिया जाएगा.

आपके उन खातों को भी सील कर दिया जाएगा जिमनें मोदी जी ने 15-15 लाख रुपए डलवा दिए हैं.

डाउनलोड करें Hindi News APP और रहें हर खबर से अपडेट।

loading...

देश की बहुसंख्य आबादी यानी हिंदू फिर से ख़तरे में आ जाएँगे जैसे 2014 से पहले थे. गली-गली में मुसलमान जिन्न नचाएँगे और उनकी आबादी अगले पाँच सालों में ही हिंदुओं से ज़्यादा हो जाएगी.

देश फिर से वैसे ही बिक जाएगा जैसे 2014 से पहले बिका हुआ था और जिसे मोदी जी ने ख़ुद वापस ख़रीद कर स्वतंत्र किया है.

भारत फिर से 500 से ज़्यादा रियासतों में बँट जाएगा जैसा 2014 से पहले बँटा हुआ था और जिसे एक करने के लिए मोदी जी ने ख़ुद सभी रियासतों के साथ ‘इंस्ट्रूमेंट ऑफ़ ऐक्सेशन’ और इंस्ट्रूमेंट ऑफ़ मर्जर’ पर हस्ताक्षर किए थे.

भाई से भाई और दोस्त से दोस्त ठीक वैसे ही लड़ने लगेंगे जैसे 2014 से पहले मनमोहन सरकार की आलोचना होने पर लोग आपस में लड़ मरते थे.

सुप्रीम कोर्ट की स्वायत्ता पर 2014 से पहले जैसा ही ख़तरा मँडराने लगेगा जब जजों को जनता के बीच आना पड़ता था, आरबीआई फिर से केंद्र सरकार का ग़ुलाम बन जाएगा, सेना के शौर्य का सारा क्रेडिट मनमोहन सिंह के ज़माने की तरह सरकार खाने लगेंगी, इसरो-डीआरडीओ की जो उपलब्धियाँ मोदी जी ने रात-रात जागकर हासिल की हैं, उन्हें अपना बताने की होड़ लग जाएगी.

बुलेट ट्रेन की जो पटरियाँ मोदी जी ने बिछाई हैं, वो उखाड़ ली जाएँगी.

यूनेस्को ने भारत के राष्ट्र गान से लेकर तिरंगे तक को जो सर्वश्रेष्ठ होने के तमग़े दिए हैं, सब वापस छीन लिए जाएँगे.

ब्रह्मांड में ‘ॐ’ का जो काज़्मिक स्वर गूँजता है, उसे बदल कर ‘अल्लाह हो अकबर’ कर दिया जाएगा.

देश फिर से कूड़े का ढेर बन जाएगा, लोग पहले की तरह चलते-फिरते सड़कों पर हगने लगेंगे, बेटियाँ 2014 से पहले की तरह ही अनपढ़ रह जाएँगी और दोबारा लव जिहाद का शिकार होने लगेंगी, नेहरु का वो भूत सब बर्बाद कर देगा जिसे मोदी जी ने पिछले पाँच सालों से अपनी तंत्र-विद्या से बाँध कर रखा है….. हे – राम, कितना भयानक दृश्य होगा, सोच कर ही रूह काँप जाती है……

इन तमान बातों को ध्यान में रखते हुए हमें मोदी जी को दोबारा जिताना ही होगा दोस्तों. उन्होंने अपने वो तमाम वादे पूरे कर दिए हैं जो 2014 से पहले उन्होंने किए थे. वैसे भी मोदी जी को अपने लिए कुछ नहीं चाहिए, वो तो फ़क़ीर आदमी हैं, ‘एक फ़क़ीरी है उनमें’, वो तो झोला लेकर चल देंगे. लेकिन ये देश रहना चाहिए. इसलिए देश को जिस दिशा में उन्होंने बीते पाँच सालों में धकेला है, उसी दिशा में देश को और आगे ठेलने के लिए मोदी जी का दोबारा जीतना बेहद ज़रूरी है।


  •  
  • 72
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    72
    Shares
  • 72
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Related posts

Leave a Comment