मोदी चैनलों पर प्रियंका चोपड़ा की शादी की खबर चल रही है, पर किसानों की खबरें गायब

  • 494
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

फिल्म  अभिनेत्री प्रियंका चोपड़ा अपने से 20 साल छोटे निक जानस से शादी करने जा रही हैं। लगभग सभी न्यूज चैनलों में आज की ये प्रमुख खबर है। कुछ चैनल अर्जेंटीना में मोदी जी का डंका बजा रहे हैं।

सास बहू और साजिश जैसी टीवी सीरियल गाथा और कपिल शर्मा का कॉमेडी सर्कस न हो तो आधे से ज्यादा न्यूज चैनलों के स्टूडियो में ताला लग जायेगा। इसके अलावा तंत्र मंत्र ,ज्योतिष, आयुर्वेद से भी न्यूज चैनलों ने अपना और खलिहर दर्शकों का बदस्तूर टाइम पास किया।

लगभग 70% चैनलों के लिए दिल्ली में इकट्ठे हुए 207 किसान संगठनों का प्रदर्शन कोई मुद्दा ही नही है। किसानों की समस्याओं पर कभी इन चैनलों ने डिबेट आयोजित की हो तो याद कीजिये ? एक अनशन संघ प्रयोजित अन्ना का भी था।

याद कीजिये लाइव रिपोर्टिंग चल रही थी क्योंकि अन्ना के आंदोलन में कानो को अच्छे लगने वाले आभासी मुद्दे थे। इस आंदोलन की वजह से संसद में उस समय समाजवादी दलों द्वारा जातीय जनगणना जैसे महत्वपूर्ण विषय पर चर्चा को भटका दिया था। किसानों के मुद्दे कभी मीडिया के लिए टीआरपी का कारण नही बनते। सस्ते क्रूड के बावजूद महँगे डीजल,पेट्रोल के दामो, गिरता रुपया, कल जीडीपी फिर गिरी है, इस तरह की खबरों पर सिद्धू की पाकिस्तान यात्रा ज्यादा भारी है।

डाउनलोड करें Hindi News APP और रहें हर खबर से अपडेट।

loading...

सरकार के सामने रेंग रहे चैनलों, मोदी जी के साथ सेल्फी लेकर धन्य हुए पत्रकारों के लिए श्रीदेवी की मर्डर मिस्ट्री, बाबा राम रहीम की हनीप्रीत,सैफ करीना के बेटे तैमूर की तस्वीरें, दीपिका रणवीर की शादी या अपनी बेटी की हत्या करवाने वाली इंद्राणी मुखर्जी की खबरें सदैव मजदूरों, किसानों की खबरों पर भारी पड़ जाती हैं। खबरों को हाईलाइट करना या छिपा ले जाना, ये सब बीजेपी मुख्यालय से तय किया जा रहा है।

पूरे विश्व मे विश्वसनीयता के मापदंड पर 176 वें स्थान वाली भारतीय मीडिया के इस भक्तिकाल को भी याद रखा जाएगा। अयोध्या जा रही संघ की संकल्प रथ यात्रा में आज सौ लोग भी नही जुट पाए। देखते हैं कि कल अखबारों में इस विषय पर क्या छपता है? साढ़े चार पहले मूर्ख बनी जनता को बरगलाने के लिए फिर से कई फर्जी न्यूज पोर्टल उग आए हैं। असली खबरों पर नकली प्लांटेड खबरे भारी करने का प्रयास है,लेकिन ये 2014 नही है। ये बात सभी को मालूम है  – सत्यार्थ

  •  
    494
    Shares
  • 494
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Related posts

Leave a Comment